“मैं विवेकानन्द बोल रहा हूँ” आंतर विद्यालय सन्देश पठन स्पर्धा का आयोजन

        विवेकानन्द केंद्र कन्याकुमारी, शाखा नागपुर की ओर से गत वर्ष की तरह इस वर्ष भी “मैं विवेकानन्द बोल रहा हूँ” सन्देश पठन स्पर्धा का आयोजन किया गया है | कक्षा ३री से ९वीं तक के विद्यार्थियों के लिए आयोजित इस स्पर्धा में पिछले वर्ष ३६ विद्यालयों के ४४६ छात्र – छात्राएं सम्मिलित हुए थे | इसे ध्यान में रखते हुए इस वर्ष ८०० विद्यार्थियों को स्पर्धा में सहभागी बनाने का लक्ष्य है | इस प्रतियोगिता में सहभागी होने वाले प्रत्येक छात्र को “गीता सन्देश” तथा प्रमाण-पत्र दिया जायेगा | इस स्पर्धा विवेकानन्द केंद्र कन्याकुमारी, शाखा नागपुर की ओर से गट वर्ष की तरह इस वर्ष भी “मैं विवेकानन्द बोल रहा हूँ” सन्देश पठन स्पर्धा का आयोजन किया गया है | कक्षा ३री से ९वीं तक के विद्यार्थियों के लिए आयोजित इस स्पर्धा में पिछले वर्ष ३६ विद्यालयों के ४४६ छात्र – छात्राएं सम्मिलित हुए थे | इसे धन में रखते हुए इस वर्ष ८०० विद्यार्थियों को स्पर्धा में सहभागी बनाने का लक्ष्य है |

          इस प्रतियोगिता में सहभागी होने वाले प्रत्येक छात्र को “गीता सन्देश” तथा प्रमाण-पत्र दिया जायेगा | इस स्पर्धा की माध्यम भाषा हिंदी, मराठी व अंग्रेजी रखी गई है | इसके तीन गट बनाये गए हैं- १] ३री, ४थी, ५वी, २] ६वी,७वी और ३] ८वी,९वी | किसी भी एक भाषा में इच्छानुसार सन्देश चुनकर प्रतियोगियों को उसे कंठस्थ करना होगा तथा मंच पर आकर उसे बिना देखे अभिव्यक्त करना होगा | स्वामी विवेकानन्द की प्रेरणादायी विचारों को याद कर स्पष्ट, लय तथा भाव के साथ प्रगट करने के प्रयास में बालकों के स्मरण शक्ति, सभा में बोलने का आत्मविश्वास, नेतृत्व आदि गुणों के विकास में सहायता मिलेगी | इस प्रतियोगिता की प्रथम फेरी का आयोजन २२ नवम्बर को नागपुर नगर के विभिन्न स्थानों पर किया गया है | अंतिम फेरी २५ नवम्बर को रना प्रताप नगर स्थित विवेकानन्द केंद्र कार्यालय के सभागार में संपन्न होगी| पहला पड़ाव पर करने वाले छात्रों का एक दिवसीय निःशुल्क व्यक्तित्व विकास शवीर लिया जायेगा | इस प्रतियोगिता में कुल २७ पुरस्कार रखे गए हैं | विजेताओं को स्मृति चिन्ह तथा बालोचित प्रेरक पुस्तकें पुरस्कार स्वरुप प्रदान की जाएगी | पुरस्कार का वितरण १२ जनवरी २०१२ को ” स्वामी विवेकानन्द जयंती ” के अवसर पर आयोजित सामूहिक सूर्यनमस्कार महायज्ञ के भव्य समारोह में होगा | प्रथम पुरस्कार प्राप्त करनेवाले छात्रों को इस कार्यक्रम में सन्देश पठन का अवसर दिया जायेगा | आओ विवेकानन्द बनें… विचारों से… चरित्र से… कृति से… की माध्यम भाषा हिंदी, मराठी व अंग्रेजी रखी गई है | इसके तीन गट बनाये गए हैं- १] ३री, ४थी, ५वी, २] ६वी,७वी और ३] ८वी,९वी | किसी भी एक भाषा में इच्छानुसार सन्देश चुनकर प्रतियोगियों को उसे कंठस्थ करना होगा तथा मंच पर आकर उसे बिना देखे अभिव्यक्त करना होगा | स्वामी विवेकानन्द की प्रेरणादायी विचारों को याद कर स्पष्ट, लय तथा भाव के साथ प्रगट करने के प्रयास में बालकों के स्मरण शक्ति, सभा में बोलने का आत्मविश्वास, नेतृत्व आदि गुणों के विकास में सहायता मिलेगी | इस प्रतियोगिता की प्रथम फेरी का आयोजन २२ नवम्बर को नागपुर नगर के विभिन्न स्थानों पर किया गया है | अंतिम फेरी २५ नवम्बर को रना प्रताप नगर स्थित विवेकानन्द केंद्र कार्यालय के सभागार में संपन्न होगी | पहला पड़ाव पर करने वाले छात्रों का एक दिवसीय निःशुल्क व्यक्तित्व विकास शवीर लिया जायेगा | इस प्रतियोगिता में कुल २७ पुरस्कार रखे गए हैं | विजेताओं को स्मृति चिन्ह तथा बालोचित प्रेरक पुस्तकें पुरस्कार स्वरुप प्रदान की जाएगी | पुरस्कार का वितरण १२ जनवरी २०१२ को ” स्वामी विवेकानन्द जयंती ” के अवसर पर आयोजित सामूहिक सूर्यनमस्कार महायज्ञ के भव्य समारोह में होगा | प्रथम पुरस्कार प्राप्त करनेवाले छात्रों को इस कार्यक्रम में सन्देश पठन का अवसर दिया जायेगा |

आओ विवेकानन्द बनें… विचारों से… चरित्र से… कृति से…

          विद्यालय सन्देश पठन स्पर्धा का आयोजन विवेकानन्द केंद्र कन्याकुमारी, शाखा नागपुर की ओर से गट वर्ष की तरह इस वर्ष भी “मैं विवेकानन्द बोल रहा हूँ” सन्देश पठन स्पर्धा का आयोजन किया गया है | कक्षा ३री से ९वीं तक के विद्यार्थियों के लिए आयोजित इस स्पर्धा में पिछले वर्ष ३६ विद्यालयों के ४४६ छात्र – छात्राएं सम्मिलित हुए थे | इसे धन में रखते हुए इस वर्ष ८०० विद्यार्थियों को स्पर्धा में सहभागी बनाने का लक्ष्य है | इस प्रतियोगिता में सहभागी होने वाले प्रत्येक छात्र को “गीता सन्देश” तथा प्रमाण-पत्र दिया जायेगा | इस स्पर्धा की माध्यम भाषा हिंदी, मराठी व अंग्रेजी रखी गई है | इसके तीन गट बनाये गए हैं- १] ३री, ४थी, ५वी, २] ६वी,७वी और ३] ८वी,९वी | किसी भी एक भाषा में इच्छानुसार सन्देश चुनकर प्रतियोगियों को उसे कंठस्थ करना होगा तथा मंच पर आकर उसे बिना देखे अभिव्यक्त करना होगा |

          स्वामी विवेकानन्द की प्रेरणादायी विचारों को याद कर स्पष्ट, लय तथा भाव के साथ प्रगट करने के प्रयास में बालकों के स्मरण शक्ति, सभा में बोलने का आत्मविश्वास, नेतृत्व आदि गुणों के विकास में सहायता मिलेगी | इस प्रतियोगिता की प्रथम फेरी का आयोजन २२ नवम्बर को नागपुर नगर के विभिन्न स्थानों पर किया गया है | अंतिम फेरी २५ नवम्बर को रना प्रताप नगर स्थित विवेकानन्द केंद्र कार्यालय के सभागार में संपन्न होगी | पहला पड़ाव पर करने वाले छात्रों का एक दिवसीय निःशुल्क व्यक्तित्व विकास शिविर लिया जायेगा | इस प्रतियोगिता में कुल २७ पुरस्कार रखे गए हैं | विजेताओं को स्मृति चिन्ह तथा बालोचित प्रेरक पुस्तकें पुरस्कार स्वरुप प्रदान की जाएगी | पुरस्कार का वितरण १२ जनवरी २०१२ को ” स्वामी विवेकानन्द जयंती ” के अवसर पर आयोजित सामूहिक सूर्यनमस्कार महायज्ञ के भव्य समारोह में होगा | प्रथम पुरस्कार प्राप्त करनेवाले छात्रों को इस कार्यक्रम में सन्देश पठन का अवसर दिया जायेगा |

                                                      आओ विवेकानन्द बनें… विचारों से… चरित्र से… कृति से…

Advertisements