बरसात…

 मन में कोई भेदभाव है, न ही भाव है जात पात |

स्नेह भाव लेकर धरती पर,  आते हो बरसात ||

तेरे आने से धरती सजती है, दुल्हन जैसी हरी-भरी |

इन्द्रधनुष की छटा देखकर, गुलाबी गालों पर कलि खिली ||

रंग-बिरंगे फूल खिल गए, महक उठा है मधुबन |

अपने रंग में रंगा के जाग का, निर्मल कर दो अंतर्मन ||

– लखेश्वर चंद्रवंशी ‘लखेश’ 

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s