सन्देश नहीं, षड्यंत्र है ‘pk’

Pk-Movieसुन्दर कथानक, बेहतरीन अभिनय और व्यंग्य-विनोद से भरपूर पीके फिल्म दर्शकों का भरपूर मनोरंजन करती है। दर्शक कहीं भी बोरियत महसूस नहीं करता। यह भी सच है कि लोग फिल्म अपने मनोरंजन के लिए देखते हैं। पर व्यंग्य-विनोद के नाम पर फिल्म निर्माताओं ने हिन्दू दर्शनशास्त्र का सीधा मजाक उड़ाया है। पाखंड का विरोध करने का दावा करनेवाले पीके के निर्देशक राजकुमार हिरानी का कहना है कि फिल्म संत कबीर और महात्मा गांधी से प्रेरित है। इसलिए निर्देशक हिरानी के इस कथन और फिल्म में छुपे निहितार्थ को उजागर करना आवश्यक है।

– लखेश्वर चंद्रवंशी ‘लखेश’

सुन्दर कथानक, बेहतरीन अभिनय और व्यंग्य-विनोद से भरपूर पीके फिल्म दर्शकों का भरपूर मनोरंजन करती है। दर्शक कहीं भी बोरियत महसूस नहीं करता। यह भी सच है कि लोग फिल्म अपने मनोरंजन के लिए देखते हैं। पर व्यंग्य-विनोद के नाम पर फिल्म निर्माताओं ने हिन्दू दर्शनशास्त्र का सीधा मजाक उड़ाया है। पाखंड का विरोध करने का दावा करनेवाले पीके के निर्देशक राजकुमार हिरानी का कहना है कि फिल्म संत कबीर और महात्मा गांधी से प्रेरित है। इसलिए निर्देशक हिरानी के इस कथन और फिल्म में छुपे निहितार्थ को उजागर करना आवश्यक है।

भारत की जनता सचमुच भोली है। इतनी भोली कि मनोरंजन की आड़ में उनकी ही आस्था और आराध्य पर चोट को भी समझने में उन्हें समय लग रहा है। जहां तक फिल्म के निर्देशक राजकुमार हिरानी, लेखक अमिताभ जोशी और अभिनेता आमिर खान के अनुसार इस पीके फिल्म के माध्यम से समाज को अच्छा सन्देश देने की कोशिश की गई है। उनका कहना है कि धर्म के नाम पर लोगों को डराकर अपनी दुकान चलानेवालों से समाज को बचना चाहिए और भगवान तक अपनी बात पहुंचाने के लिए किसी बाबा या फकीर की मध्यस्थता की जरूरत नहीं है। पर क्या इतना ही सन्देश छुपा है इस फिल्म में? बिल्कुल नहीं।

हिन्दू युवतियों को बरगलाने का षड़यंत्र     

‘पीके’ जानबूझकर एक सोची-समझी चाल से बनाई गई फिल्म है, जिसका हेतु केवल और केवल हिन्दू पूजा-पद्धति, देवी-देवताओं और आस्थाओं का मजाक उड़ाना है। साथ ही इस फिल्म के माध्यम से हिन्दू युवतियों का मुस्लिम युवकों पर विश्वास करने के लिए कहा गया है, क्योंकि मुस्लिम युवक धोखा नहीं देते। इस बात को साबित करने के लिए फिल्म में पाकिस्तानी मुस्लिम युवा सरफराज खान (सुशांत सिंह राजपूत), भारतीय हिन्दू युवती जगद्जननी उर्फ़ जग्गू (अनुष्का शर्मा) और एक हिन्दू धर्मगुरु (तपस्वी बाबा) पर केन्द्रित कहानी बनाई गई है। इस कहानी की शुरुवात पाकिस्तानी युवा से हिंदुस्थानी युवती के प्रेम-प्रसंग से होती है, पर तपस्वी बाबा के भविष्य वाणी के चलते दोनों प्रेमी अलग हो जाते हैं। इसके बाद हिन्दू पूजा-पद्धति और भगवान के अस्तित्व पर प्रश्न खड़े करते हुए फिल्म आगे बढ़ती है। फिल्म के अंत में क्लाइमेक्स के रूप में पाकिस्तानी मुस्लिम युवा पर भारतीय हिन्दू युवती विश्वास करती है कि वह मुस्लिम युवा उससे सच्चा प्रेम करता है, और तपस्वी बाबा की भविष्य वाणी गलत साबित होती है। यह फिल्म हिन्दू युवतियों को मुस्लिम युवाओं से प्रेम करने के लिए प्रेरित करती है।

रिमोट के बहाने ईश्वर के अस्तित्व पर प्रश्न

फिल्म के मुख्य नायक आमिर खान ‘पीके’ नामक भूमिका में हैं, जो कि एक दूसरे ग्रह से आया हुआ प्राणी है। वह राजस्थान की रेतीली धरती पर आसमान से उतरता है। उसके शरीर पर कोई कपड़ा नहीं है बस गले में एक चमकता लॉकेट है जोकि एक रिमोट कंट्रोल है। इसी रिमोट कंट्रोल की सहायता से वह अपने यान को वापस बुलाकर अपने ग्रह पर जा सकता है। नए ग्रह पर उतरने के बाद एक चोर उसका लॉकेट छीन कर भाग जाता है। भागते समय उसका ट्रांजिस्टर छूट जाता है। वह लोकेट अर्थात रिमोट की तलाश में इधर-उधर भटकता है, पर वह सफल नहीं हो पाता। आम बोलचाल की भाषा में लोग कहते हैं कि तेरी समस्या भगवान ही सुलझा सकते हैं। इसके बाद पीके भी अपने लॉकेट की मांग को लेकर भगवान का दरवाजा खटखटाता है। वह मंदिर, मस्जिद, गिरिजाघर और गुरुद्वारा तक पहुंचता है, लेकिन उसे लॉकेट नहीं मिलता।

इसी बीच स्वानंद किरकिरे लिखित एक सुन्दर गीत है जिसे सोनू निगम ने गाया है,- “सुना ये पूरी धरती तू चलाता है, मेरी भी सुन ले अर्ज मुझे घर बुलाता है, भगवान है कहां रे तू, हे खुदा है कहां रे तू…। फिल्म में यही एक मात्र स्थान है जहां ईश्वर की खोज में पीके की छटपटाहट दर्शकों के मन में ईश्वर के दर्शन की जिज्ञासा का भाव जाग्रत करता है। ईश्वर दर्शन के लिए यह छटपटाहट हिंदुत्व भावधारा की सुन्दर अभिव्यक्ति है। भारतीय इतिहास में अनेक महान भक्तों की जीवनी का प्रतिबिम्ब इस गीत में दिखाई देती है। शेष सभी जगह ईश्वर के अस्तित्व पर प्रश्न खड़े किए गए हैं। फिल्म में ऐसे संवाद हैं जिसके द्वारा यह बताया गया कि भगवान को पैसे देने पर भी वह काम नहीं करता।

ईश्वर, धार्मिक स्थल और पूजा पद्धति का उपहास

रिमोट की खोज में लगे पीके को शिवजी के भेष में एक व्यक्ति दिखाई देता है। पीके उसके पीछे लग जाता है, बाथरूम में वह उस व्यक्ति को बंद कर देता है। शिवजी का भेषधारी पीके की डर से इधर-उधर भागता है। यह दृश्य दर्शकों को हंसाता है। फिल्म के दर्शकों को मालूम है कि यह व्यक्ति शिवजी नहीं वरन शिवजी का भेषधारी है। पर विचार करनेवाली बात है कि पीके के निर्माता-निर्देशक को भेषधारी के नाम पर केवल शिवजी की ही कल्पना सूझी; उसे कोई मुल्ला, पाधरी आदि की कल्पना नहीं सूझी। इस शिवजी के भेषधारी वाले प्रसंग द्वारा हास्य प्रगट करने के चक्कर में पीके ने शिवजी और उसको माननेवाले करोड़ों जनता की भावनाओं को हताहत किया है। इसके बाद बात आती है शिवजी को दूध का अभिषेक कराने की। तर्क यह दिया गया कि शिव को दूध चढ़ाने के बजाय भूखे बच्चे को दूध पिलाना चाहिए।

क्या फिल्म निर्देशक शिवजी पर दूध के अभिषेक के बजाय शराब, नशा आदि अनेक व्यसनों पर किए जानेवाले रुपयों के खर्च को बालकों के भूख, शिक्षा, स्वास्थ्य और सुविधा में लगाने के लिए कह सकते थे। पर उन्होंने ऐसा नहीं किया। हमारे देश में ऐसे बहुत से तथाकथित समाज सुधारक बुद्धिजीवी पैदा हो गए हैं जिन्हें लगता है कि श्रावण माह के दौरान शिव की पूजा में दूध का चढ़ावा यानी दूध को बर्बाद करना है। फिल्म में पाखंड का खंडन के नाम पर इसी विचार को दर्शाया गया है। इसी तरह फिल्म बताता है कि मंदिर और उसके पुजारी जनता को ठगने, लूटने और भगवान का भय दिखाने के लिए बने हैं। इसी कड़ी में तपस्वी बाबा की भूमिका बनाई गई है। फिल्म में तपस्वी बाबा का सहारा लेकर मंदिर निर्माण का विरोध किया गया है। इतना ही नहीं तो तीर्थस्थलों की यात्रा के महत्त्व हो भी व्यर्थ बताया गया है और कहा गया है कि भक्त डरकर भगवान की पूजा करते हैं, जो कि सही नहीं है।

ऐसा नहीं कि पाखंड का विरोध नहीं होना चाहिए, निश्चित रूप से होना चाहिए। कई बाबाओं के उदाहरण आज हमारे सामने है। पर एकआध बाबा के तराजू में देश के अनगिनत संतों और महापुरुषों की मंशा पर सवाल खड़ा करना क्या उचित है? फिल्म के अंत में चार सन्देश दिए गए। चौथे सन्देश में कहा गया कि जो बाबा यह कहे कि वह ईश्वर से मिलाएगा तो समझना यह रोंग नम्बर है। फिल्म का यह सन्देश गलत है, क्योंकि भारतीय दर्शनशास्त्र के अनुसार जो ईश्वर की अनुभूति करा सके उसकी खोज करनी चाहिए। ईश्वर की अनुभूति करानेवाले तो सदगुरु होते हैं। गुरु-शिष्य परम्परा में इसका बहुत महत्त्व है। हमारा इतिहास गुरु-शिष्य की महान परम्परा के उदाहरणों से भरा पड़ा है। यह फिल्म इसी विचारधारा का विरोध करता है। फिल्म में अनावश्यक रूप से अनेक बार डांसिंग कार का प्रसंग ‘भारत में ऐसा होता है’, के तर्ज पर विदेशी कामुकता को खुले रूप से चित्रित किया गया है, जो बेहद आपत्तिजनक है।

विरोध के कारणों को समझें

पीके का विरोध कर रहे विश्व हिन्दू परिषद्, बजरंग दल आदि संगठनों पर मीडिया और तथाकथित सेकुलर दल के नेता (अखिलेश, नीतीश) व्यंग्य कस रहे हैं। पीके के संदेशों में कुछ हो न हो, हिन्दू मतों का विरोध के चलते इन्होंने अपने राज्य में इसे टैक्स फ्री तक कर दिया। पर इस फिल्म का विरोध कर रहे संगठनों का कहना है कि इस फिल्म में केवल हिन्दू दर्शन और देवी-देवताओं का उपहास किया गया है। इसमें इस्लाम और ईसाइयों में फैले अंधविश्वासों को छूने का प्रयास बिल्कुल नहीं किया गया। फिल्म निर्माताओं ने आतंकवाद कहां और कैसे पनपता है, यह विषय उठाने की हिम्मत नहीं दिखाई, बल्कि ‘लव जिहाद’ को बढ़ावा देते हुए हिन्दू युवतियों को भरमाने, उलझाने और बरगलाने का कुत्सित प्रयत्न इस फिल्म के माध्यम से किया गया है। यदि सचमुच यह फिल्म सदगुरु कबीर से प्रेरित होता तो यहां सभी मत, सम्प्रदायों और विचारधारा की गलती पर प्रहार होता। पर ऐसा नहीं है, इस फिल्म में टारगेट केवल हिन्दू संस्कृति है। संत कबीर त्रुटियों, पाखंड और पापों पर प्रहार करते थे पर यहां पर तो सीधे आस्था पर प्रहार है। कबीर साहब मनुष्य को ईश्वर के करीब लाते हैं और यह फिल्म ईश्वर के अस्तित्व पर ही सवाल खड़ा करता है। फिल्म निर्देशक का यह कहकर पल्ला झाड़ना कि फिल्म संत कबीर से प्रेरित है तो यह सही नहीं है। जो भी व्यक्ति थोड़ा ध्यान से इस फिल्म के कथानक को समझने का प्रयत्न करे तो बड़ी सहजता से फिल्म का हेतु स्पष्ट हो जाता है।

क्या सेंसर बोर्ड भारत के सामाजिक ताने-बाने से अनभिज्ञ हैं या इसमें भी भ्रष्टाचार का खेल है?  यह फिल्म सहजता से देशभर में प्रदर्शित हो गई और देश के बड़े पत्रकार और नेता फिल्म का समर्थन करते हैं। फिल्म को पसंद करना न करना, व्यक्तिगत मामला है पर जिस देश में बहुसंख्यक हिन्दू समाज के आस्था पर चोट की जाती है तो देश का कानून और राजतन्त्र को कोई शिकायत नहीं होती। इसी प्रकार का फिल्म यदि पाकिस्तान में मुस्लिम विरोधी होती तो क्या होता? बांग्लादेशी लेखिका तसलीमा नसरीन ने इस सन्दर्भ में कहा कि यदि इस प्रकार की फिल्म पाकिस्तान या बांग्लादेश में बनती तो अभिनेता-निर्देशक जेल की कोठरी में होते या फिर बाहर रहते तो मार दिए जाते। गौरतलब है कि एक पाकिस्तानी मीडिया के कार्यक्रम में अभिनेत्री वीना मलिक और उनके पति बशीर के नकली निकाह में धार्मिक गीत बजाया गया तो वहां के न्यायालय ने वीना और बशीर सहित टीवी शो की मेजबान शाइस्ता वाहिदी को भी 26 साल कैद की सजा सुनाई।

पर यह भारत है, यहां ऐसा नहीं हो सकता। यहां का कानून अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को अधिकार देता है कि वह अपनी बातें जनता के समक्ष रख सकें। पर इस व्यवस्था को यह भी स्मरण में रखना जरुरी है कि अभिव्यक्ति स्वतंत्रता के नाम पर करोड़ों लोगों के मत, पंथ, पूजा-पद्धति और आस्था का माखौल न उड़ाया जाए। और हम सभी देशवासियों को जागरूक रहकर ऐसे फिल्मों में जो षड्यंत्र परोसा जाए उससे सावधान रहें, अपने विवेक को सदैव जगाए रखें। वैसे भाजपा नेता सुब्रह्मण्यम स्वामी ने ‘पीके’ के फाइनेंसरों के तार आतंकवाद से जुड़े होने के आरोप लगाया है, आगे इसकी भी जांच हो सकती है।

Advertisements

One thought on “सन्देश नहीं, षड्यंत्र है ‘pk’

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s