संघ के आलोक में ‘भारतीय शिक्षा’

विद्याभारती
विद्याभारती

वर्तमान दौर में भारतीय शिक्षा व्यवस्था पाश्चात्य विचारों, आर्थिक अभावों, राजनीतिक प्रभावों और भ्रष्टाचार की बर्बर समस्याओं से जूझ रही है। संघ परिवार के शैक्षिक संगठन अपने योजनाबद्ध कार्यों से भारतीय जीवन मूल्यों के द्वारा इन समस्याओं को सुलझाने में लगे हैं।  

– लखेश्वर चंद्रवंशी ‘लखेश’

शिक्षा मनुष्य जीवन की सबसे बड़ी पूंजी है, साथ ही वह राष्ट्र गौरव का आधारस्तंभ भी है। यही कारण है कि दुनिया के सभी देश अपने शिक्षा व्यवस्था, शिक्षा प्रणाली और शैक्षिक पाठ्यक्रम को लेकर जागरूक रहते हैं। प्रत्येक देश अपने राष्ट्रीय लक्ष्य की प्राप्ति के लिए अपने देश की शिक्षा व्यवस्था को अधिकाधिक उन्नत करने का प्रयास करते हैं। अपने भारत देश की पहचान एक ज्ञानभूमि के रूप में रही है। पर वर्त्तमान दौर में भारतीय शिक्षा व्यवस्था अपने ही देश के भारत विरोधी शिक्षाविदों, इतिहासकारों और नीतिकारों के षड्यंत्रों की मार झेल रहा है। साथ ही भारत की शिक्षा व्यवस्था आर्थिक अभावों, राजनीतिक प्रभावों और भ्रष्टाचार की बर्बर समस्याओं से जूझ रहा है। ऐसी स्थिति में शिक्षा द्वारा राष्ट्रीय चरित्र का निर्माण कर समाज मन में कर्तव्य बोध का अलख जगाने का महान कार्य राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) और संघ परिवार से जुड़े अनेक संगठन कर रहे हैं।

विद्या भारती : देश का सबसे बड़ा गैर सरकारी शिक्षा संगठन

आज का बालक कल का कर्णधार है। वह देश की आशाओं का केंद्र है। वही हमारे देश, धर्म एवं संस्कृति का रक्षक है। उसके व्यक्तित्व के विकास में ही हमारी संस्कृति एवं सभ्यता का विकास निहित है। इसलिए बालक का नाता मातृभूमि और पूर्वजों से जोड़ना, यह शिक्षा का सीधा, सरल तथा सुस्पस्ट लक्ष्य है। लेकिन इस समय हमारी प्रचलित शिक्षण पद्धति पश्चिमी मनोविज्ञान पर आधारित है जो विशुद्ध भौतिकवादी दृष्टिकोण लिए हुए है, जबकि भारतीय शिक्षा दर्शन के अनुसार बालकों के सर्वांगीण विकास की अवधारणा विशुद्ध आध्यात्मिक है। शिक्षा तभी व्यक्ति एवं राष्ट्र के जीवन के लिए उपयोगी होगी जब वह देश के राष्ट्रीय जीवन दर्शन पर अधिष्ठित होगी। इस बात को ध्यान में रखते हुए विद्या भारती ने सनातन हिन्दू जीवन दर्शन के अधिष्ठान पर भारतीय शिक्षा दर्शन का विकास किया, जिसमें ‘शिक्षा के साथ संस्कार’ का लक्ष्य निहित है।

शिक्षा का विस्तार
शिक्षा का विस्तार

1952 में संघ की प्रेरणा से कुछ निष्ठावान लोग शिक्षा क्षेत्र में सुधार के पुनीत कार्य में जुट गए, और उन्होंने गोरखपुर में “सरस्वती शिशु मंदिर” की आधारशिला पांच रुपये मासिक किराये के भवन में रखी। इसके बाद स्थान-स्थान पर “सरस्वती शिशु मंदिर” स्थापित होने लगे। आज लक्षद्वीप और मिजोरम को छोड़कर सम्पूर्ण भारत में 86 प्रांतीय एवं क्षेत्रीय समितियां विद्या भारती से संलग्न हैं। इनके अंतर्गत कुल मिलाकर 23,320 शिक्षण संस्थाओं में 1,47,634 शिक्षकों के मार्गदर्शन में 34 लाख छात्र-छात्राएं शिक्षा एवं संस्कार ग्रहण कर रहे हैं। इनमें से 49 शिक्षक प्रशिक्षक संस्थान एवं महाविद्यालय, 2353 माध्यमिक एवं 923 उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, 633 पूर्व प्राथमिक एवं 5312 प्राथमिक, 4164 उच्च प्राथमिक एवं 6127 एकल शिक्षक विद्यालय तथा 3679 संस्कार केंद्र हैं।

आज नगरों और ग्रामों में, वनवासी और पर्वतीय क्षेत्रों में झुग्गी-झोंपड़ियों में, शिशु वाटिकाएं, शिशु मंदिर, विद्या मंदिर, सरस्वती विद्यालय, उच्चतर शिक्षा संस्थान, शिक्षक प्रशिक्षण केंद्र और शोध संस्थान हैं। इन सरस्वती मंदिरों की संख्या निरंतर बढ़ रही है। इसके फलस्वरूप अभिभावकों के साथ तथा हिन्दू समाज में निरंतर संपर्क बढ़ रहा है। हिन्दू समाज के हर क्षेत्र में प्रभाव बढ़ा है। आज विद्या भारती भारत में सबसे बड़ा गैर सरकारी शिक्षा संगठन बन गया है।

उपेक्षित झुग्गी-झोपड़ियों में विद्या भारती : भारत में झुग्गी-झोपड़ियों में कई करोड़ जनसंख्या निवास करती है। अधिकतर ये बस्तियां रेलवे लाइन तथा कल-कारखानों के आस-पास पड़ी खुली भूमि पर बस गई हैं। हमारे इस समाज के बंधुओं के परिवार के 8-10 लोग एक छोटी सी झोंपड़ी में गुजर करते हैं। विद्या भारती ने अपने इन बांधवों की बस्तियों में शिक्षा एवं संस्कार प्रदान करने की ओर ध्यान केन्द्रित किया है।

विद्या भारती ने अपने विद्यालयों से आग्रह किया कि प्रत्येक विद्यालय एक उपेक्षित बस्ती को गोद लेकर वहां “संस्कार केंद्र” (सिंगल टीचर स्कूल) खोले। विद्यालय और संस्कार केंद्र में प्रेम और आत्मीयता का सम्बन्ध स्थापित करें। विद्या भारती के इस आह्वान का सकारात्मक असर हुआ।  संघ संस्थापक डॉ. हेडगेवारजी की जन्मशताब्दी के अवसर पर विद्या भारती ने “संस्कार केंद्र” खोलने के लिए विशेष अभियान लिया। वर्त्तमान में 3679 संस्कार केंद्र इन बस्तियों में चल रहे हैं। शिक्षा एवं संस्कारों के साथ-साथ ये संस्कार केंद्र सामाजिक समरसता, स्वास्थ्य, स्वावलंबन, संस्कृति एवं स्वदेश प्रेम का अलख जगा रहे हैं।

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद्
अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद्

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) 

“शिक्षा जीवन के लिए – जीवन वतन के लिए” इस सोच को छात्र जीवन में चरितार्थ करने के लिए संघ की प्रेरणा से अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (अभाविप) की स्थापना की गई। महाविद्यालयीन छात्रों के हितों की रक्षा करनेवाला अभाविप का मुख्य उद्देश युवाओं के छात्र जीवन को राष्ट्रहित से जुड़े रचनात्मक कार्यों से जोड़ना है। आज अभाविप देश का सबसे बड़ा छात्र संगठन है, जिसमें कुल 32,79,244 सदस्य संख्या है। अभाविप की महाविद्यालय ईकाइयों की संख्या कुल 7126 है।

देशभर में विद्यार्थी परिषद छात्र-छात्राओं को विविध प्रकल्पों के माध्यम से समाज के रचनात्मक कार्यों से जोड़ता है। इसके अंतर्गत संस्कार केन्द्र, वाचनालय, रक्तदान, रक्तदाता सूची, बुक बैंक, चिकित्सा शिविर, रोजगार प्रशिक्षण, सामाजिक व राष्ट्रीय विषयों पर सेमीनार व संगोष्ठि, अभ्यास मंडल जैसे विभिन्न प्रकार के प्रकल्प चलाए जाते हैं। इन प्रकल्पों के संपर्क में आने से विद्यार्थियों को समाज का दर्शन होता है तथा उन्हें समाज के लिए कुछ करने की प्रेरणा मिलाती है।

भारतीय शिक्षण मंडल

भारतीय शिक्षण मंडल 1969 से कार्यरत है। शिक्षा की रीति-नीति, पद्धति व पाठ्यक्रम के लिए रचनात्मक कार्य इसका लक्ष्य है। वर्त्तमान में देश के 220 जिलों में इकाइयों का गठन हुआ है।

राष्ट्रीय पुनरुत्थान के लिए प्राथमिक शिक्षा से लेकर उच्च शिक्षा तक सम्पूर्ण शिक्षा को भारतीय मूल्यों पर आधारित, भारतीय संस्कृति की जड़ों से पोषित तथा भारत केन्द्रित बनाने के लिए नीति, पाठ्यक्रम तथा पद्धति में भारतीयता लाना भारतीय शिक्षण मंडल का ध्येय है। इस ध्येय की प्राप्ति के लिए शिक्षण मंडल आवश्यक अनुसन्धान, प्रबोधन, प्रशिक्षण, प्रकाशन व संगठन का कार्य करता है।

शिक्षार्जन के उद्देश्य को व्यक्ति केन्द्रित से राष्ट्र केन्द्रित करना, भारतीय जीवन मूल्यों को वरीयता प्रदान करना, व्यवसायिक व अन्य भौतिक लक्ष्यों में भी राष्ट्रहित को ही प्राथमिकता देना यह शिक्षा का उद्देश्य बनें, इस दिशा में शिक्षण मंडल कार्य करता है। इस हेतु नीति निर्धारकों, संस्था चालकों, शिक्षकों के साथ ही व्यापक समाज प्रबोधन का कार्य मंडल कर रहा है।

अखिल भारतीय राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ

अखिल भारतीय शैक्षिक महासंघ, पूर्व प्राथमिक से लेकर विश्वविद्यालय स्तर तक के सम्पूर्ण राष्ट्र के शिक्षकों का राष्ट्रभक्त एवं भारतीय से ओतप्रोत संगठन है। इसका प्रारंभ वर्ष 1988 में हुआ। यह अन्य शिक्षक संगठनों से भिन्न संगठन है जो शिक्षा, शिक्षक एवं समाज के हित में कार्य करता है। अब यह महासंघ देशव्यापी संगठन है। 24 राज्यों के 35 राज्यस्तरीय संगठन तथा 56 विश्वविद्यालय संगठन महासंघ से सम्बद्ध हैं और ८० से अधिक विश्वविद्यालयों में इसका सम्पर्क है।

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s